Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

ग्रह दोष निवारण के लिए खाएं ऐसा खाना | Graha Dosha Nivaran ke liye khaye ye khana

ग्रह दोष निवारण के लिए खाएं ऐसा खाना | Graha Dosha Nivaran ke liye khaye ye khana..

हम सब जो फल, सब्जियां, अनाज खाते हैं उनका संबंध ग्रहों से होता है। यदि आप कोई विशेष फल ज्यादा खा रहे हैं, तो उस फल का संबंध जिस ग्रह से है तो उस ग्रह का प्रभाव आपके जीवन में बढ़ जाएगा।

ऐसे में आपको यह जानना बेहद जरूरी है कि वह ग्रह आपके भविष्य को संवारने में मदद कर रहा है या आपके जीवन में बाधाएं खड़ी कर रहा है?

खाने-पीने की चीजों का संबंध इन ग्रहों से है

सूर्य- सूर्य का संबंध सूखा नारियल का गोला, खजूर का फल, केसर, बड़ी इलायची से है।

चंद्रमा- चंद्रमा का संबंध पानी वाले नारियल, लीची, खरबूजा, तरबूज, खीरा, नींबू, खुशबूदार बासमती चावल से है।

मंगल- मंगल का संबंध लाल मिर्च, काली मिर्च, जायफल, लौंग, तीखे मसाले, सरसों का साग, कटहल, सोयाबीन से है।

बुध- बुध का संबंध सूरन, अदरक, पालक, बथुआ, मेथी, सीताफल, बैंगन, पान और गन्ने से है।

गुरु- गुरु का संबंध अनाज, हल्दी, सिंघाड़े से है।

शुक्र- शुक्र का संबंध सभी फूलदार वनस्पति, जमीन के भीतर बढ़ने वाली सब्जियां जैसे आलू, गाजर, प्याज से है।

शनि- शनि का संबंध साबुत दालें, कषैले खट्टे स्वाद वाले आंवला, संतरा, बेलफल से है।

राहु-केतु- जहरीले पौधे, बरचिटा, कटैली कांटेदार बबूल और ऐसे फल जिन्हें खाया नहीं जा सकता है का संबंध राहु-केतु से होता है।

*किस ग्रह का बढ़ रहा है आप पर प्रभाव*

यदि आप तीखे मसालों का प्रयोग अपने भोजन में ज्यादा करते हैं तो मंगल ग्रह का प्रभाव आप पर ज्यादा बढ़ रहा है।

यदि आप सरसों का साग, कटहल की सब्जी या अचार ज्यादा खा रहे हैं तो मंगल ग्रह का असर आपके शरीर, मन और जीवन पर बढ़ रहा है क्योंकि इन खाने की चीजों का संबंध मंगल ग्रह से है। यदि आपकी कुंडली में मंगल ग्रह की स्थिति अनुकूल है या मंगल कुंडली में कमजोर है तो उपर बताई गई चीजों का प्रयोग करने से मंगल से शुभ फल मिलेगा, आपको लाभ होगा, आपका पराक्रम बढ़ेगा, आपको अनुकूल ऊर्जा प्राप्त होगी और आपका भविष्य उज्ज्वल होगा। लेकिन यदि आपकी कुंडली में मंगल ग्रह की स्थिति ठीक नहीं है, मंगल छठे भाव, आठवें भाव या बारवें भाव में बैठा हुआ है या मंगल पर क्रूर ग्रहों का प्रभाव ज्यादा है तो मंगल से संबंधित खान-पान से आपके जीवन में नेगेटिव प्रभाव बढ़ सकता है।

वैवाहिक जीवन में परेशानी, लड़ाई, झगड़ा, गलत लोगों की संगति, बीमारी, व्यापार में हानि, क्रोध की वजह से आपको नुकसान हो सकता है। इसलिए मंगल ग्रह से संबंधित खाने की चीजों का प्रयोग ऐसे लोगों को बहुत कम या बिल्कुल नहीं करना चाहिए जिनकी कुंडली में मंगल ग्रह की स्थिति प्रतिकूल हो, ये तो एक ग्रह का उदाहरण हुआ इसी तरह बाकि ग्रहों की भी कुंडली में स्थिति देख लें जो ग्रह आपकी कुंडली में अनुकूल स्थानों पर बैठे हुए हैं। शुभ फल दे रहे हैं, उनसे संबंधित खाने-पीने की चीजों का प्रयोग करें या जो ग्रह कमजोर हैं। उसने शुभ फल पाने के लिए भी आप उनसे संबंधित फल, सब्जियों का अनाज का प्रयोग अपने खान-पान में बढ़ा दें आपको लाभ अवश्य होगा।

हरे रंग की सब्जियां क्यों खाएं

अच्छे डाईटीशियन हर रंग की सब्जियों का प्रयोग भोजन में करने की सलाह देते हैं. ताकि शरीर को हर रंग और पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में मिल सके। रंगों का कनेक्शन ग्रहों से होता है। सफेद रंग का शुक्र से, लाल रंग का मंगल से, हरे रंग का बुध से, पीले रंग का बृहस्पति से, नीले या काले रंग का शनि से. इस तरह इनका ज्योतिषी से संबंध भी है यदि आप हर रंग की सब्जियों का अपने भोजन में प्रयोग करेंगे तो हर ग्रह का प्रभाव आपके शरीर पर पड़ेगा। जिस ग्रह से संबंधित चीजों की शरीर में कमी होगी, शरीर अपने आप उसे ग्रहण कर लेगा और आपकी डाइट वैलेंस हो जाएगी, आपका स्वास्थ ठीक रहेगा।

Write Your Comment