मन्त्रों से रोग निवारण | Mantro Se Rog Nivaran

मन्त्रों से करें रोग निवारण.. कैंसर रोग निवारण, मस्तिष्क रोग निवारण, आंखों के रोग निवारण, हृदय रोग निवारण, स्नायु रोग निवारण, कान संबंधी रोग निवारण..

कैंसर रोग
“ॐ नम: शिवाय शंभवे कर्केशाय नमो नम:।”
यह मंत्र किसी भी तरह के कैंसर रोग में लाभदायक होता है।

मस्तिष्क रोग
“ॐ उमा देवीभ्यां नम:।”
यह मंत्र मस्तिष्क संबंधी विभिन्न रोगों जैसे सिरदर्द, हिस्टीरिया, याददाश्त जाने आदि में लाभदायी माना जाता है।

आंखों के रोग :
“ॐ शंखिनीभ्यां नम:।”
इस मंत्र से जातक को मोतियाबिंद सहित रतौंधी, नेत्र ज्योति कम होने आदि की परेशानी में लाभ मिलता है।

हृदय रोग
“ॐ नम: शिवाय संभवे व्योमेशाय नम:।”
हृदय संबंधी रोगों से अधिकांश लोग पीड़ित होते हैं। इसलिए अगर वे इस मंत्र का जप करें, तो उन्हें लाभ मिलता है।

स्नायु रोग
“ॐ धं धर्नुधारिभ्यां नम:। ”

कान संबंधी रोग
“ॐ व्हां द्वार वासिनीभ्यां नम:।”
कर्ण विकारों को दूर करने में यह मंत्र आश्चर्यजनक भूमिका निभाता है।

कफ संबंधी रोग
“ॐ पद्मावतीभ्यां नम:। ”

श्वास रोग
“ॐ नम: शिवाय संभवे श्वासेशाय नमो नम:।”

पक्षाघात रोग
“ॐ नम: शिवाय शंभवे खगेशाय नमो नम:।”
इन मंत्रों की शक्ति से रोग भागते हैं । मंत्रों में गजब की शक्ति होती है। इनका नियमित जप न केवल जातक को मानसिक शांति देता है, बल्कि उन्हें होने वाली गंभीर बीमारियों को भी दूर भगा सकता हैं ।अब आप कितना करते है यह तो आप पर निर्भर करता हैं। इसमे कोई अतिशोक्ति नही यदि कुछ रोग जड से सामाप्त हो जाये।

Write Your Comment