Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

अर्ध कुम्भ मेला २०१९ | इलाहाबाद अर्धकुम्भ मेला

Kumbh-Mela-festival

Kumbh-Mela-festival

अर्ध कुम्भ का सुयोग प्रयागराज इलाहाबाद

जिस वर्ष माघ की अमावस्या वाले दिन वृश्चिक राशि में गुरु और मकर राशि में सूर्य चंद्र होते है, उस वर्ष तीर्थराज प्रयाग (इलाहाबाद) में अर्धकुम्भ पर्व का सुयोग बनता है | त्रिवेणी घात संगम पर स्नान दानादि का भारी महत्त्व पद्मपुराण में लिखा है | पुण्यार्जन पारित्वेन कल्पकल्पान्तरों में होने वाले पापों का क्षयः होकर सुख मिलता है | प्राणी मोक्ष का भाग्यदार बनता है |

पश्चिमाभिमुखी गंगा कालिंदा सह संगीता | हन्ति कल्पकृतं पापं सा माघे दुर्लभा ||

इस वर्ष यह अर्धकुम्भ का सुयोग (माघ मॉस की मौनी अमावस, सोमवती अमावस, महोदय योग और सर्वरता सिद्धियोग में) पड़ जाने से अत्यंत महत्वपूर्ण बना हुआ है | वृषनु पुराण के अनुसार हज़ार अश्वमेध यज्ञ, सौ वाजपेय यज्ञ और लाख बार पृत्वी की परिक्रमा करने जो फल मिलता है, उसे प्राणी कुम्भपर्व में स्नानमात्र से प्राप्त कर लेता है |

अश्वमेध सहस्त्रांशो वाजपेय शैतानी च | लक्ष प्रदक्षिणभूमेः कुम्भ स्नान ततमंगलम || त्रिवेणी कुम्भे अस्मिन नरक पातश्चा न भवेत् |

इस वर्ष सोमवती अमावस्या में सभी योग श्रवणनक्षत्र, व्यतिपात योग, मॉनिमवास, महोदय योग और सर्वार्तासिद्धियोग अत्यंत महत्वपूर्ण बने हुए है | ऐसे सर्वसुखद संयोग कभी कभी प्राप्त होते है | कुम्भ के समय सबका समागम एक सात हुआ हो हमारी स्मृति में तो नहीं है | ऐसे दुर्लभ योग कभी कभार बहुत भाग्यशाली व्यक्तियों को प्राप्त होते है |

कुम्भ पर्व में असंख्य श्रद्धालुजन, योगी, विरक्ति, तपस्वी, साशुसन्यासी, पञ्चदास अखाड़े, वैष्णव, उदासीन एवं निर्मल सम्प्रदाय के संत महात्मा त्रिवेणी के पावन संगम पर सामान्य एवं शाही स्नानार्थ अवश्य पधारते है | दर्शन मेला से माघ व फाल्गुन मॉस में भारी लाभ होता है | मकरसंक्रांतिजन्य मॉस में पुण्यार्जन के लिए तीर्थों में असंख्य श्रद्धालु प्रवास किया सरते है, जैसा की श्री रामचरित मानस में लिखा है

माघ मकरगत रवि जब होई | तीरथ पतिहि आव सब कोई ||

देव दनुज किन्नर नर श्रेणी | सादर मनुजहि सकल त्रिवेणी ||

अर्धकुम्भ के प्रमुख दिन तारीखे

१४ जनवरी २०१९, सोमवार मकर संक्रांति अर्धकुम्भ पर्व प्रारम्भ

१५ जनवरी २०१९, मंगलवार मकर संक्रांति पुण्यकाल प्रातःकाल

२१ जनवरी २०१९, सोमवार पौष पूर्णिमा पुष्य योग में

२४ जनवरी २०१९, गुरुवार संकष्टी चौथ व्रत, श्री गणेश जयंती

३१ जनवरी २०१९, गुरुवार षटतिला एकादशी व्रत

४ फरवरी २०१९, सोमवार मौनी अमावस्या मुख्य स्नान पर्वदिन

१० फरवरी २०१९, रविवार वसंतपंचमी, श्री सरस्वती जयंती

१६ फरवरी २०१९, शनिवार जाया एकादशी, भैणीग्यारस

१९ फरवरी २०१९, मंगलवार माघ पूर्णिमा

२ मार्च २०१९, शनिवार विजय एकादशी व्रत

४ मार्च २०१९, सोमवार महाशिवरात्रि, सर्वार्थसिद्धियोग

६ मार्च २०१९, बुधवार फाल्गुन अमावस्या

१७ मार्च २०१९, रविवार आमला एकादशी, रवि पुष्ययोग

२० मार्च २०१९, बुधवार होलिकादहन, महविषुवद्दिन

Write Your Comment