Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

पञ्चमहापुरुष योग | Pancha Mahapurush Yoga

भारतीय ज्योतिष शास्त्र में पञ्चमहापुरुष योग | Pancha Mahapurush Yoga | कौनसी योग पञ्चमहापुरुष योग कहलाता है?

१- रूचक योग (Ruchak Yog)

जन्मकुण्डली में अगर मंगल अपनी राशि का होकर मूल त्रिकोण में अथवा उच्च राशि का होकर केन्द्र में स्थित हों , तो रूचक योग होता है।

निष्कर्ष – रूचक योग में जन्म लेनेवाला व्यक्ति स्वयं राजा या सेना या मिलिटरी में उच्चाधिकारी , आर्थिक दृष्टि से पूर्ण संपन्न अपने देश की सभ्यता और संस्कृति के प्रति पूर्ण जागरूक उसके विकास के लिए काम करता है।

२- भद्र योग (Bhadra Yog)

जन्मकुण्डली में अगर बुध अपनी राशि का होकर मूल त्रिकोण में अथवा उच्च राशि का होकर केन्द्र में स्थित हो तो भद्र योग होता है।

निष्कर्ष – भद्र योग में जन्म लेनेवाला मनुष्य सिंह के समान पराक्रमी , प्रभावोत्पादक , विलक्षण बुद्धि वाला होता है , यह जीवन में धीरे धीरे प्रगति करते हुए सर्वोच्च स्थान प्राप्त करता है।

३- हंस योग (Hamsa Yog)

जन्मकुण्डली में अगर बृहस्पति अपनी राशि का होकर मूल त्रिकोण में अथवा उच्च राशि का होकर केन्द्र में स्थित हो , तो हंस योग होता है।

निष्कर्ष – हंस योग में जन्म लेनेवाला व्यक्ति सुंदर व्यक्तित्व वाला मधुरभाषी होता है। यह सफल वकील या जज बनकर निष्पक्ष न्याय करता है।

४- मालव्य योग (Malavya Yog)

जन्मकुण्डली में अगर शुक्र अपनी राशि का होकर मूल त्रिकोण में अथवा उच्च राशि का होकर केन्द्र में स्थित हो , तो मालब्य योग होता है।

निष्कर्ष – मालब्य योग वाला व्यक्ति मजबूत दिमाग रखनेवाला , सफल कवि , चित्रकार , कलाकार या नृत्यकार होते हैं और देश विदेश में ख्याति प्राप्त करते हैं।

५- शश योग (Shasha Yog)

जन्मकुण्डली में अगर शनि अपनी राशि का होकर मूल त्रिकोण या उच्च राशि का होकर केन्द्र में स्थित हो तो में शश योग बनता है।

निष्कर्ष – शश योग वाले व्यक्ति साधारण कुल में जन्म लेकर भी राजनीति विशारद होते हैं , वे गांव का मुखिया , नगरपालिकाध्यक्ष , या प्रसिद्ध नेता होते हैं।

Write Your Comment