कुम्भ राशिफल मार्च 2018 | Kumbh Rashifal March 2018 | कुम्भ राशि भविष्य

कुम्भ राशि मार्च 2018 की मासिक राशिफल, पढ़े कुम्भ राशि की दैनिक एवं साप्ताहिक राशि भविष्य मार्च 2018..

नाम के अनुसार कुम्भ राशि: गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा|

नक्षत्र के अनुसार कुम्भ राशि: धनिष्ठा नक्षत्र का तृतीय और चौथा चरण; शतभिषा (शतर्क) नक्षत्र का चारों चरण; पूर्वभाद्र (पूर्वाभाद्रपद) नक्षत्र का प्रथम, द्वितीय और तृतीय चरण |

पाश्चात्य ज्योतिष के अनुसार  कुम्भ राशिवाले वे है जो २१ जनवरी और १९ फरवरी दिनाक के बीच जन्म लिया है (सूर्य राशि) |

भारतीय वैदिक ज्योतिष के अनुसार कुम्भ राशिवाले वे है जो १३ फरवरी और १४ मार्च दिनाक के बीच जन्म लिया है (सूर्य राशि) |

कुम्भ राशि के लिए शुभ मुहूर्त २०१८

कुम्भ राशि भविष्य – 1 मार्च से 7 मार्च 2018

सप्ताह आरंभ में कुंभ राशि पर सूर्य-बुध-शुक्र का योग बना हुआ है | जिससे आर्थिक क्षेत्र में उलझने के बावजूद आय के साधन बनते रहेंगे | सोची योजना में विघ्न बाधाएं एवं परिवार में कुछ मतभेद भी रहेगा |

सप्ताहांत में प्रत्येक कार्य में अनेक उतार-चढ़ाव, संघर्ष एवं लेन देन के कामों में सावधान रहें | व्यर्थ की भागदौड़ बनी रहेगी |

कुम्भ राशि भविष्य – 8 मार्च से 14 मार्च 2018 

आरंभ में सूर्य पर शनि की दृष्टि होने से व्यावसायिक क्षेत्रों में कुछ अनिश्चितता बनेगी | आय कम खर्च अधिक होगा | कठिन समस्याओं का सामना करना पड़ेगा | बनते कामों में विघ्न उत्पन्न होंगे |

लाभ स्थान पर मंगल-शनि का योग होने से पारिवारिक मतभेद, क्रोध की अधिकता से लाभ के मार्गों में विघ्न उत्पन्न होंगे | मन चिंतित एवं असंतुष्ट रहेगा | स्वास्थ्य संबंधी विषयों में सावधान रहें |

कुम्भ राशि भविष्य – 15 मार्च से 23 मार्च 2018

पारिवारिक परेशानियों के कारण व्यतीत होगा | व्यवसाय की स्थिति मध्यम रहेगी | बनते कामों में विघ्न उत्पन्न होंगे | आलस्य एवं निराशा में वृद्धि होगी | वाहन आदि चलाते समय सावधानी से रहे |

व्यावसायिक क्षेत्र के कार्यों में व्यस्तताएं बढ़ेगी | विलास आदि पदार्थों पर अधिक खर्च होंगे | धन हानि और उच्चाधिकारियों से विरोध उत्पन्न होंगे |

कुम्भ राशि भविष्य – 24 मार्च से 31 मार्च 2018

लाभ स्थान पर मंगल-शनि का योग होने से मिश्रित प्रभाव होगा | निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेंगे | भाई बंधुओं से संपर्क बढ़ेंगे | विलास आदि कार्यों पर धन का खर्च अधिक होगा | व्यर्थ यात्रा के कारण परेशानी होगी | पंचम भाव पर मंगल शनि की दृष्टि होने से संतान संबंधी चिंता, संतान से मतभेद एवं स्वास्थ्य कुछ ढीला रहेगा |

सप्ताहांत में व्यावसायिक क्षेत्रों में उतार-चढ़ाव, खर्च की अधिकता, क्रोध एवं उत्तेजना से कोई कार्य बिगड़ सकता है | सावधानी से रहें |

इस माह में श्री सुंदरकांड का पाठ करना, श्री हनुमत कवच का पाठ करना, संकटनाशन श्री गणेश स्तोत्र का पाठ करना, तामसिक भोजन से पूरी तरह परहेज करना कुंभ राशि वालों के लिए शुभ फलदायक साबित होगा |

Write Your Comment