विशाखा नक्षत्र फलम 2019 | विशाखा नक्षत्र भविष्य

विशाखा नक्षत्र फलम 2019, विशाखा नक्षत्र भविष्य 2019 हिंदी में.. विशाखा नक्षत्र सनातन ज्योतिष क्षेत्र की २७ नक्षत्र चक्र में सोलहवाँ नक्षत्र है |

नक्षत्र के अनुसार तुला राशि : चित्र नक्षत्र का तीसरा और चौथा चरण; स्वाति नक्षत्र का चारों चरण; विशाखा नक्षत्र का पहला, दूसरा और तीसरा चरण | नक्षत्र के अनुसार वृश्चिका राशि : विशाखा नक्षत्र का चौथा चरण; अनुराधा नक्षत्र का चारों चरण; ज्येष्ठा नक्षत्र का चारों चरण |

जनवरी २०१९

इस माह में आपके आर्थिक स्तिति अनुकूल रहेगी | आपके संतुलित और कौशल बुद्धि आपको सही तरफ लेजाती है | इस माह में आप सफ़ेद और साफ़ कपडे पहनेंगे | आपके सुंदरता और चतुरता सबको आकर्षित करेगा | विविद कार्यों को सँभालने की क्षमता, दृढ़ चित्त और विश्वास सबको चकित करेंगे |

आप नए नए लोगों को मिलते है | औरतों से रिश्ते बेहतर होंगे | मानसिक और शारीरक संबंधों के बारे में आप चर्चा में रहेंगे | नौकरी, व्यापर व व्यवसाय, शिक्षा व पढ़ाई में आपको बढ़ोतरी दिखेगी |

उपाय

इस माह में आपके स्तिति और बेहतर होने के लिए, श्री माँ लक्ष्मी मंदिर में पूजन करें | माँ लक्ष्मी की स्तोत्र जाप करें |

फरवरी २०१९

धनलाभ की सुचना है| आपका मानसिक संतुलन और व्यक्तित्व आपको उंचाईयों की तरफ लेजायेगा | स्वस्थ और अर्थ व्यवस्ता आपके दशा के अनुसार अच्छी स्तिति में है| वस्त्रलाभ की सुचना और गेहने भी खरीदने की सुचना| आपके घरवालों को भी वस्त्रलाभ और अभरणलाभ की सुचना |

पश्चिम दिशा में सफर करेगा| आपके धैर्य और आत्मविश्वास सबको चकित करेगा | नौकरी और व्यापर की दृष्टिकोण में, ये एक अच्छी समय है, वृद्धि दिखती है| आपके बॉस के द्वारा प्रशंसा मिलेगी, और ग्रहाकोंसे भी अभिनन्दन की सुचना |

उपाय

1] दत्तात्रेय पूजन करे | 2] शिवलिंग की अभिषेक करे| शिव पंचाक्षरी मंत्रं जाप करे | 3] गरीब छात्रों को किताब वगैरा खरीदके दे |

मार्च २०१९

इस माह आपको कुत्ता, बिल्ली और हाथी जैसे जानवरों से डर रहेगा | अस्तिरता और मनोक्लेश से आप चिंतित रहेगा | एक बाधापूर्ण समाचार की सम्भावना है | चोर भीति आपको और चिंतित बनाएगी | असहिष्णता आपके कुशलता को टाल देगा और आपको अवैध व गैर क़ानूनी कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करेगा | एक बात याद रखे – अनावश्यक विवाद आपके मेधा शक्ति के लिए हानिकारक है |

स्वास्थ्य समस्याएं तथा हृद्रोग, उदर बाधा, गर्भस्राव, पाचन व्यवस्था के सम्बन्धित रोग आदि के लिए सावधान रहने की सोच रखे और पूर्वोपाय से यह समस्याएं दूर होजायेगा |

उपाय

1] शिवजी के मंदिर में प्रत्येक पूजन, रुद्राभिषेक कराये | 2] किसी भी शनिवार के दिन ‘शनि तैलाभिषेक पूजन’ करावे |

Write Your Comment