Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

स्वाति नक्षत्र फलम 2019 | स्वाति नक्षत्र भविष्य

स्वाति नक्षत्र फलम 2019, स्वाति नक्षत्र भविष्य 2019 हिंदी में.. स्वाति नक्षत्र सनातन ज्योतिष क्षेत्र की २७ नक्षत्र चक्र में पन्द्रहवां नक्षत्र है |

नक्षत्र के अनुसार तुला राशि : चित्र नक्षत्र का तीसरा और चौथा चरण; स्वाति नक्षत्र का चारों चरण; विशाखा नक्षत्र का पहला, दूसरा और तीसरा चरण |

जनवरी २०१९

इस माह में आपका पारिवारिक जीवन संतुष रहेगी| स्वादिष्ट कहना और अच्छी बातों से आप खुश रहेगा | महिलाओं के साथ आपका सम्बन्ध अच्छी रहेगी | आतंरिक व्यवहारों में आपका चाल चलने की सम्भावना है| ये आपको प्यूरी महीना खुश रखेगी |

समाज में आपका प्रतिशत बढ़ने वाली है| अपने बुजुर्गों को मिलके उनका आशीर्वाद प्राप्त करलेते है | व्यापर वृद्धि की सम्भावना है| आपके मेहनत की फल आना शुरू होगी| आपका श्रद्धा नृत्य, गीतालापन जैसे सांस्कृतिक कलाओं पे भी लगते है |

उपाय

1] दुर्गा मैय्या की आराधना शुभप्रद है| दुर्गा कवच, दुर्गा अष्टकम या किसी दुर्गा माता की स्तोत्र पठन करे | सप्ताह में एक दिन दुर्गा माँ की मंदिर जाके दर्शन करे | 2] सुब्रह्मण्य स्वामी (कार्तिकेय) की पूजन करे अथवा दत्तात्रेय प्रभु की आराधना करे| 3] गरीबों को अन्न वितरण करे| गरीब छात्रों को ख़िताब दिलवाये|

फरवरी २०१९

दोस्त और रिश्तेदारों के साथ कुछ अच्छी समय बीत सकते है| आपका सामाजिक प्रतिशत बढ़ेगी | आपके समाज का वरिष्ठ व्यापारियों के साथ दोस्ती करते है| ये आपका व्यापर वृद्धि के लिए काम आती है | व्यापर बढ़ने की सुचना है |

भविष्य के बारे में सोचने की वक्त है| आनेवाले महीने और आनेवाली साल के बारे में सुनिशित कार्यनीति बनाते है | आपका कठोर मेहनत व्यर्थ नहीं होगी| धनलाभ की सुचना है |

उपाय

1] भगवन विष्णु की पूजन करे| वैष्णव मंदिर संदर्शन करे | 2] सप्ताह में एक दिन किसी भी वैष्णव मंदिर में (श्री राम मंदिर, कृष्णा मंदिर, नरसिम्हा मंदिर) में बैठके विष्णु सहस्रनाम की जाप करे |

मार्च २०१९

दोस्त, आत्मीय और बंधुओं से सम्बन्ध ठीक नहीं रहेगा | एक कपट दोस्त से सम्बन्ध तोड़ने के लिए यह एक अच्छी समय है | चंचल स्वाभाव से आप आपके मनचाहा कार्य करने की कोशिश में रहेगा | आपको यह समय सहनशीलता और क्षमा की उपयोग करना पड़ेगा |

अनावश्यक विवादों से आपके क्षमता व्यर्थ होगी | इस विषय में सतर्क रहे | आध्यात्मिक चिंतन आपके मन को उल्लास रखेगा | मंदिर या किसी पुण्यस्थली की दर्शन प्राप्त होगी |

नौकरी क्षेत्र में अनुकूल परिस्तिति होगी | उच्चाधिकारियों से द्वारा आपको अतिरिक्त कर्तव्यों की पालन करने की आदेश मिलेगी | व्यापर व व्यवसाय में बढ़ोतरी रहेगी | धनहानि और सर्प व अन्य सरीसृपों से भीति की आशंका है|

उपाय

1] नवग्रह मंदिर की दर्शन करें | केतु पूजन करें और ‘केतु स्तुति’ की जाप करें | 2] महा रुद्राभिषेक या शिवलिंग अभिषेक करने से बाधाओं से मुक्ति मिलेगी |

Write Your Comment