Chhath Puja 2020, 2021, 2022 | Chhath Puja dates

Surya Bhagwan

Surya Bhagwan

Chhath Puja is an important festival dedicated to Surya Bhagawan, mostly celebrated in Bihar, Jharkhand, New Delhi, Haryana, and some other parts of North India.

Chhath Puja is observed for four days in Kartik month – starts on Kartik Shukla Chaturthi and ends on Kartik Shukla Saptami.

Not only in Bihar, it also observed in other cities like New Delhi, Kolkata, Mumbai, Bangalore, Chennai, Hyderabad, Guwahati, Kanpur, etc. where Bihari people live.

Chhath Puja is celebrated for four days as follows – Chhath Nahai Khai, Chhath Kharna, Chhath Sanjha Argh, Usha Arghya (Chhath Puja Paarana).

छठ पूजा

दीपावली के छठे दिन से शुरू होने वाला छठ का पर्व चार दिनों तक चलता है। इन चारों दिन श्रद्धालु भगवान सूर्य की आराधना करके वर्षभर सुखी, स्वस्थ और निरोगी होने की कामना करते हैं। चार दिनों के इस पर्व के पहले दिन घर की साफ-सफाई की जाती है।

छठ पूजा चार दिवसीय उत्सव है। इसकी शुरुआत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को तथा समाप्ति कार्तिक शुक्ल सप्तमी को होती है। इस दौरान व्रतधारी लगातार 36 घंटे का व्रत रखते हैं। इस दौरान वे पानी भी ग्रहण नहीं करते।

नहाय खाय

पहला दिन कार्तिक शुक्ल चतुर्थी ‘नहाय-खाय’ के रूप में मनाया जाता है। सबसे पहले घर की सफाई कर उसे पवित्र किया जाता है। इसके पश्चात छठव्रती स्नान कर पवित्र तरीके से बने शुद्ध शाकाहारी भोजन ग्रहण कर व्रत की शुरुआत करते हैं। घर के सभी सदस्य व्रति के भोजनोपरांत ही भोजन ग्रहण करते हैं। भोजन के रूप में कद्दू-दाल और चावल ग्रहण किया जाता है। यह दाल चने की होती है।

लोहंडा और खरना

दूसरे दिन कार्तिक शुक्ल पंचमी को व्रतधारी दिनभर का उपवास रखने के बाद शाम को भोजन करते हैं। इसे ‘खरना’ कहा जाता है। खरना का प्रसाद लेने के लिए आस-पास के सभी लोगों को निमंत्रित किया जाता है। प्रसाद के रूप में गन्ने के रस में बने हुए चावल की खीर के साथ दूध, चावल का पिट्ठा और घी चुपड़ी रोटी बनाई जाती है। इसमें नमक या चीनी का उपयोग नहीं किया जाता है। इस दौरान पूरे घर की स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाता है।

संध्या अर्घ्य

तीसरे दिन कार्तिक शुक्ल षष्ठी को दिन में छठ का प्रसाद बनाया जाता है। प्रसाद के रूप में ठेकुआ,[16] जिसे कुछ क्षेत्रों में टिकरी भी कहते हैं, के अलावा चावल के लड्डू, जिसे लड़ुआ भी कहा जाता है, बनाते हैं। इसके अलावा चढ़ावा के रूप में लाया गया साँचा और फल भी छठ प्रसाद के रूप में शामिल होता है।

शाम को पूरी तैयारी और व्यवस्था कर बाँस की टोकरी में अर्घ्य का सूप सजाया जाता है और व्रति के साथ परिवार तथा पड़ोस के सारे लोग अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देने घाट की ओर चल पड़ते हैं। सभी छठव्रति एक नियत तालाब या नदी किनारे इकट्ठा होकर सामूहिक रूप से अर्घ्य दान संपन्न करते हैं। सूर्य को जल और दूध का अर्घ्य दिया जाता है तथा छठी मैया की प्रसाद भरे सूप से पूजा की जाती है; इस दौरान कुछ घंटे के लिए मेले जैसा दृश्य बन जाता है।

उषा अर्घ्य

चौथे दिन कार्तिक शुक्ल सप्तमी की सुबह उदियमान सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। व्रति वहीं पुनः इकट्ठा होते हैं जहाँ उन्होंने पूर्व संध्या को अर्घ्य दिया था। पुनः पिछले शाम की प्रक्रिया की पुनरावृत्ति होती है। सभी व्रति तथा श्रद्धालु घर वापस आते हैं, व्रति घर वापस आकर गाँव के पीपल के पेड़ जिसको ब्रह्म बाबा कहते हैं वहाँ जाकर पूजा करते हैं। पूजा के पश्चात् व्रति कच्चे दूध का शरबत पीकर तथा थोड़ा प्रसाद खाकर व्रत पूर्ण करते हैं जिसे पारण या परना कहते हैं।

Chhath Puja dates

Chhath Puja 2020 – Friday, November 20

Chhath Puja 2021 – Wednesday, November 10

Chhath Puja 2022 – Sunday, October 30

Chhath Puja 2023 – Sunday, November 19

Chhath Puja 2024 – Thursday, November 7

Chhath Puja 2025 – Monday, October 27

Chhath Puja 2026 – Sunday, November 15

Chhath Puja 2027 – Thursday, November 4

Chhath Puja 2028 – Monday, October 23

Chhath Puja 2029 – Sunday, November 11

Chhath Puja 2030 – Friday, November 1

Chhath Puja 2031 – Thursday, November 20

Chhath Puja 2032 – Tuesday, November 9

Chhath Puja 2033 – Saturday, October 29

Chhath Puja 2034 – Friday, November 17

Chhath Puja 2035 – Tuesday, November 6

Chhath Puja 2036 – Saturday, October 25

Chhath Puja 2037 – Friday, November 13

Chhath Puja 2038 – Tuesday, November 2

Chhath Puja 2039 – Monday, November 21

Chhath Puja 2040 – Saturday, November 10

Chhath Puja 2041 – Thursday, October 31

Chhath Puja 2042 – Wednesday, November 19

Chhath Puja 2043 – Sunday, November 8

Chhath Puja 2044 – Thursday, October 27

Chhath Puja 2045 – Tuesday, November 14

Chhath Puja 2046 – Saturday, November 3

Chhath Puja 2047 – Thursday, October 24

Chhath Puja 2048 – Wednesday, November 11

Chhath Puja 2049 – Monday, November 1

Chhath Puja 2050 – Sunday, November 20

Chhath Puja 2051 – Thursday, November 9

Chhath Puja 2052 – Tuesday, October 29

Chhath Puja 2053 – Sunday, November 16

Chhath Puja 2054 – Thursday, November 5

Chhath Puja 2055 – Monday, October 25

Chhath Puja 2056 – Sunday, November 12

Chhath Puja 2057 – Friday, November 2

Chhath Puja 2058 – Thursday, November 21

Chhath Puja 2059 – Tuesday, November 11

Chhath Puja 2060 – Saturday, October 30

Chhath Puja 2061 – Friday, November 18

Chhath Puja 2062 – Tuesday, November 7

Chhath Puja 2063 – Saturday, October 27

Chhath Puja 2064 – Friday, November 14

Chhath Puja 2065 – Tuesday, November 3

Chhath Puja 2066 – Sunday, October 24

Chhath Puja 2067 – Saturday, November 12

Chhath Puja 2068 – Thursday, November 1

Chhath Puja 2069 – Wednesday, November 20

Chhath Puja 2070 – Sunday, November 9

Chhath Puja 2071 – Thursday, October 29

Chhath Puja 2072 – Tuesday, November 15

Chhath Puja 2073 – Sunday, November 5

Chhath Puja 2074 – Thursday, October 25

Chhath Puja 2075 – Wednesday, November 13

Chhath Puja 2076 – Monday, November 2

Chhath Puja 2077 – Sunday, November 21

Chhath Puja 2078 – Friday, November 11

Chhath Puja 2079 – Tuesday, October 31

Chhath Puja 2080 – Sunday, November 17

Chhath Puja 2081 – Thursday, November 6

Chhath Puja 2082 – Monday, October 26

Chhath Puja 2083 – Monday, November 15

Chhath Puja 2084 – Friday, November 3

Chhath Puja 2085 – Wednesday, October 24

Chhath Puja 2086 – Tuesday, November 12

Chhath Puja 2087 – Saturday, November 1

Chhath Puja 2088 – Friday, November 19

Chhath Puja 2089 – Tuesday, November 8

Chhath Puja 2090 – Saturday, October 28

Chhath Puja 2091 – Friday, November 16

Chhath Puja 2092 – Tuesday, November 4

Chhath Puja 2093 – Sunday, October 25

Chhath Puja 2094 – Sunday, November 14

Chhath Puja 2095 – Thursday, November 3

Chhath Puja 2096 – Wednesday, November 21

Chhath Puja 2097 – Sunday, November 10

Chhath Puja 2098 – Thursday, October 30

Chhath Puja 2099 – Wednesday, November 18

Chhath Puja 2100 – Sunday, November 7

Write Your Comment