तिजोरी पूजन विधि | Deepavali Tijori Pujan Vidhi | Money Locker Pujan

तिजोरी पूजन – कुबेर पूजन

तिजोरी पर सिन्दूर से स्वस्तिक एवं शुभ-लाभ अंकित करें, तत्पश्चात कुबेर का निम्नलिखित मन्त्र से ध्यान करें:

मनुज-वाह्रा-विमान-स्थितं,
गरुड़-रत्न-निभं- निधि-नायकम |
शिव-सखं मुकुटादि-विभूषितम,
वर-गडे दधतं भजे तुन्दिलम ||

अब हाथ में अक्षत एवं पुष्प लेकर तिजोरी में श्री कुबेर देवता का आवाहन करें :

आवाहयामि देवा ! त्वामिहायाहि कृपाम कुरु |
कोषम वार्ध्व्याय नित्यं, त्वम् पारी-रक्ष सुरेश्वर ||
श्री कुबेर-देवाय नमः | आवाहनार्थे अक्षतान समर्पयामि ||

अब हाथ में पुष्प लेकर तिजोरी में कुबेर देव को आसन प्रधान करें :

नाना-रत्न-समायुक्तं
कार्त-स्वर विभूषितम |
आसनं देव-देवेशा! प्रीत्यर्थ प्रति-गृह्यताम ||
श्री कुबेर देवया नमः |
आसनार्थे पुष्पाणि समर्पयामि ||
तीन बार जल के छीटें दें और बोलें :
श्री कुबेर देवया नमः | पाद्यं, अर्घ्यम, आचमनीयं समर्पयामि ||
श्री कुबेर देवया नमः | सर्वांगा स्नानं समर्पयामि || (जल के छीटें दें |)
श्री कुबेर देवया नमः | सर्वांगा पंचामृत स्नानं समर्पयामि || (पंचामृत से स्नान कराये |)
श्री कुबेर देवया नमः | सर्वांगा शुद्धोदक स्नानं समर्पयामि || (शुद्ध जल से स्नान कराये |)
श्री कुबेर देवया नमः | सुवासितम इत्र समर्पयामि || (इत्र चढ़ाये |)
श्री कुबेर देवया नमः | वस्त्रम समर्पयामि || (वस्त्रम अथवा मौली चढ़ाये |)
श्री कुबेर देवया नमः | यग्नोपवीतं समर्पयामि || (यग्नोपवीतं चढ़ाये |)
श्री कुबेर देवया नमः | आचमनीयं जलम समर्पयामि || (जल के छीटें दें |)

श्री कुबेर देवया नमः | गंधम समर्पयामि || (रोली या लालचन्दन चढ़ाये |)
श्री कुबेर देवया नमः | अक्षतं समर्पयामि || (चावल चढ़ाये |)
श्री कुबेर देवया नमः | पुष्पाणि समर्पयामि || (पुष्प चढ़ाये |)
श्री कुबेर देवया नमः | धूपं अगरपायामि || (धुप्प करें |)
श्री कुबेर देवया नमः | दीपम दर्शयामि || (दीपक दिखाए |)
श्री कुबेर देवया नमः | नैवेद्यं समर्पयामि || (प्रशाद चढ़ाये |)
श्री कुबेर देवया नमः | आचमनीयं जलं समर्पयामि || (जल के छीटें दें |)
श्री कुबेर देवया नमः | दक्षिणां समर्पयामि || (नकदी चढ़ाये |)
श्री कुबेर देवया नमः | कर्पूरनीराजनं समर्पयामि || (कर्पूर आरती करें |)

अब निम्नलिखित मन्त्र से प्रार्तना करें :
धनदाय नमस्तुभ्यं निधि – पाध्याधिपाय च |
भगवान त्वत्प्रसादेणा धन-धान्यादि-सम्पदः ||
श्री कुबेर-देवाय नमः, पररतनपूर्वक नमस्कारान समर्पयामि |

नमस्कार करें | इस प्रकार तिजोरी पर कुबेर देवता का पूजन करने के पश्चात हाथ में अक्षत एवं पुष्प लेकर निम्नलिखित मन्त्र का उच्चारण करते हुए पूजन को समाप्ति करें :

कुतानानेन पुूजनेन धनाध्यक्ष श्री कुबेर: प्रीयतां न मम ||

Leave a Reply