Sheetala Ashtami Katha in Hindi, Sheetalastami Story

पुराणों का वर्णन Sheetala माता भगवान ब्रह्मा के द्वारा बनाई गई हो. भगवान ब्रह्मा उससे वादा किया था कि वह धरती पर पूजा किया जाएगा, लेकिन वह दाल के बीज लेकर की जरूरत है. वह अपने साथी के रूप में Jvara Asura (बुखार दानव), जो भगवान शिव के पसीने से बनाया गया था के लिए कहा.

Sheetala माता की कहानी का वर्णन है कि Sheetala और Jvara जब Devaloka में रहे उन्हें सर पर यात्रा और दाल जाया करते थे जहां वे गए थे. ये दाल चेचक रोगाणु और सब बदल गया बीमारी है. उनमें से परेशान कहा देवताओं उसे कहीं वह कहाँ की उपासना है और जाने के लिए.

दोनों पृथ्वी पर आया था. राजा Birat उस समय सत्तारूढ़ था. राजा की पूजा के लिए तैयार हो उसे और उसके राज्य में उसे जगह दे दी. उन्होंने कहा कि वह भगवान शिव के रूप में ही सम्मान नहीं मिलेगा. यह किया और वह उसे गुस्से में चेचक के प्रसार शुरू कर दिया. उसकी शक्ति देखकर राजा आत्मसमर्पण कर दिया और उसके कि पृथ्वी के निवासियों की पूजा करेंगे वादा किया था उसे चैत्र Ashtami के दिन पर. माँ Sheetala खुश और वरदान दे दिया है कि उन सभी पूजा जो उसे महामारी रोग प्रतिरक्षा जाएगा और एक लंबी स्वस्थ जीवन जीने बन गया.

Leave a Reply

7 Comments

  1. RAJESH SHARMA says:

    Happy Sheetalashtami
    Bashyorda Mahaparv Ki Hardik Shubhkamnaye!

  2. Prannath says:

    shree sitla mata in hindi story free download

  3. Damyanti says:

    Kase kare savan me seetla saptami ki puja

  4. Shikhandin says:

    sheetla mata katha in hindi mp3 free downloads

  5. Nandin says:

    free download history of sheetla mata hindi pdf

  6. chomu samode says:

    hamare yha sheetla mata ka bahut bada mela bharta hai. log ek din pahle meethaiya banate hai or shitlastmi ke din thande pakwano se mata ki pooja ki jati hai or pakwan khate hai. sham ko mela lagta hai.