Importance of Daan or charity on Surya Sankranti or Surya Sankraman in Hindi

Importance of daan or charity or donating various things on surya sankranti (surya sankraman) is explained here in Hindi. This article is written by Aman Jindal, a regular visitor of Hindupad.com. Please go on and read for full details about Surya Sankraman daan.

सूर्य  संक्रान्ति  में  दान  का  महत्व षड्शिती , विष्णुपदी , उत्तरायण  एवं  दक्षिणायन

व्यासजी ने वैशम्पायनजी से कहा  :-कश्य्यप   मुनि  के  अंश  और  अदिति  के  गर्भ  से  उत्पन्न  होनेके  कारन  सूर्य
आदित्य  नाम  से  प्रसिद्द  हुए | सूर्य  बारह  स्वरुप  धारण  करके  बारह
महीनो  बारह  राशियों  में  संक्रमण  करते  रहते  है | उनके  संक्रमण (Transit)  से  ही
संक्रान्ति  होती  है |

मुने  संक्रान्तियो  में  पुण्य  कर्म  करने  से  लोगो  को  जो  फल  मिलता है  वह  सब
हम  बतलाते  है | धन (SAGITTARIUS)(16 December 2011) , मिथुन (GEMINI) (15 June 2011) , मीन (PISCES)(15 March 2011)  और  कन्या (VIRGO)(17 September 2011) रशिकी  संक्रान्ति को षड्शिती  कहते  है | तथा  वृष (TAURUS)(15 may 2011) , वृश्चिक (SCORPIO)(17 November)  , कुम्भ (AQUARIUS) (February 13)  और  सिंघ (LEO)(17 August) राशिपर जो  सूर्य  की  संक्रान्ति  होती  है  उसका  नाम  विष्णुपदी  कहते  है |

षड्शिती  नामकी  संक्रान्ति  में  किये  हुए  पुण्य  कर्म  का  फल  छियासी  हजारगुना  ,
विष्णुपदी  में  लाख  गुना  और  उत्तरायण  या  दक्षिणायन  आरम्भ  होनेके  दिन
कोटि  कोटि  गुना  अधिक  होता  है | दोनों  अयनो  के  दिन  जो  कर्म  किया  जाता  है
वह  अक्षय  होता  है | मकर (CAPRICORN)( 14 January 2011) संक्रान्ति  ( माघ  मॉस  की  संक्रान्ति  ) में  सूर्योदय  के  पहले  स्नान  करना  चाहिए | इससे  दस  हज़ार  गो  दान  का  फल  प्राप्त  होता  है | उस  समय  किया हुआ  तर्पण  , दान  और  देव  पूजन  अक्षय  होता  है | विष्णुपदी  नामक   संक्रान्ति
में  किये  हुए  दान  को  भी  अक्षय  बताया  गया  है | दाता  को  प्रत्येक  जन्म में
उत्तम  निधि  की  प्राप्ति  होती  है | शीतकाल  में  रुई  दार   वस्त्र  दान  करने  से  शरीरमें  कभी  दुःख  नहीं  होता | तुला  दान  और  शय्या  दान  दोनों  का  फल  अक्षय  है |
माघ  मॉस  के  कृष्ण  पक्ष  की  अमावस्या ( 2nd February 2011) को  सूर्योदय  के  पहले  जो  जल  और तिल  से पितरो  का  तर्पण  करता  है  वह  स्वर्ग   में  अक्षय सुख  भोगता  है |
ब्राह्मण  को  भोजन  के  योग्य  अन्न  देने  से  भी  अक्षय  स्वर्ग  की  प्राप्ति  होती  है |
जो  उत्तम  ब्राह्मण  को  अनाज , वस्त्र  , घर  आदि  दान  करता  है  उसे  लक्ष्मी
कभी  नहीं  छोडती  |  माघ  मॉस  के  शुक्ल  पक्ष  की  तृतीया  को  मन्वंतर
तिथि  कहते  है | उस  दिन  जो  कुछ  दान  किया  जाता  है  वेह  सब  अक्षय  बताया
गया  है | पद्म  पुराण  ( सृष्टि  खंड  :- सूर्य  सक्रांति  में  दान  का  महत्व )

Leave a Reply

10 Comments

  1. Pankajadharini says:

    story on importance of daan in hindi language